• Chief Minister's visit at Sanitary Park kanker-Chhatisgarh
    Chief Minister's visit at Sanitary Park kanker-Chhatisgarh (Technical support provided by Samarthan in preparation of the Sanitary Park)
  • Community lead total Sanitation book in Hindi released by ChiefMinister Chhatisgarh
    Community lead total Sanitation book in Hindi released by ChiefMinister Chhatisgarh (Book prepared by Samarthan and printed by district administration kanker)
  • Bundelkhan CSs meeting in Jahani
  • Identifying the rights of migrants and their families
  • Bundelkhan CSs meeting in Jahani MNREGA

विश्व हाथ धुलाई दिवस पर मध्यप्रदेश में 1441709 से अधिक बच्चों ने स्थापित किया एक साथ हाथ धोने का विश्व रिकाॅर्ड

आज विश्व हाथ धुलाई दिवस है। आज के दिल पूरे मध्य प्रदेश के समस्त विद्यालयों, आंगनवाड़ीयों में बच्चों को हाथ धुलाई की विधि बताई गई है। यह कार्यक्रम इसलिए भी रोचक है, क्योंकि एक ही समय में पूरे प्रदेश में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है। इस अभियान में एमपी वाॅश, वाटरएड, कार्ड एवं समर्थन जैसी तमाम स्वैच्छिक जगत के साथियों ने स्वच्छ हाथ, स्वस्थ स्वास्थ के प्रति लागों को संवेदनशील बनाने में अपनी भूमिका निभाया है।

वल्र्ड रिकाॅर्ड बनाने के लिए 11 बजे से 12 बजे तक एक ही समय में हाथ धोने के लिए प्रदेश के 20 हजार शालाओं के बच्चों को सम्मिलित किया गया। हाथ धुलाई के माध्यम से बच्चों में स्वच्छता के महत्व को बढ़ावा देने और हाथ धुलाई से रोगाणुओं को फैलने से रोकने के प्रति जागरूक करने के लिए मध्यप्रदेश सरकार द्वारा एमपीटास्ट (मध्यप्रदेश टेक्निकल असिस्टेंस सपोर्ट टीम) के तकनीकी सहयोग द्वारा गिनिज बुक आॅफ रिकाॅर्ड के लिए यह प्रयास किया गया।

हाथ धुलाई के सभी तय स्थानों पर साबुन उपलब्ध कराने के लिए रेकिट बेंकिसर द्वारा 5.73 लाख डिटाॅल साबुन की सप्लाई की जा रही है। डीएफआइडी के सहयोग से चल रहे मध्यप्रदेश हेल्थ सेक्टर रिफाॅर्म प्रोग्राम के माध्यम से एमपीटास्ट द्वारा तकनीकी सहयोग देना संभव हुआ है। इसमें वाटरएड और एफएचआइ 360 भी सहयोगी हैं।

‘‘भारत में स्वच्छता शिक्षा वाटरएड के कार्यों का मुख्य आधार है। मध्यप्रदेश में रिकाॅर्ड के लिए विश्व हाथ धुलाई दिवस के दिन बड़े स्तर पर किए गए आयोजन द्वारा हम उम्मीद कर रहे हैं कि संक्रमण से फैलने वाली बीमारियों से बचने के लिए बच्चों को हाथ धुलाई की अच्छी आदतों के प्रति प्रेरित कर पाएंगे ताकि वे अपने दोस्तों एवं परिवार को भी इसके लिए प्रभावित कर सकें। स्वच्छता के लिए व्यवहार बदलाव करने के लिए साफ-सफाई की शिक्षा एक महत्वपूर्ण जरिया है। जागरूकता की इस बेहतर पहल के लिए मध्यप्रदेश सरकार को सहयोग करते हुए हम बहुत ही खुशी का अनुभव कर रहे हैं।’’ वाटरएड इंडिया के मुख्य कार्यकारी श्री नीरज जैन ने ये बातें कही।

इस विशेष मौके पर रेकिट बेंकिसर के प्रबंध निदेशक श्री नितीष कपूर ने कहा, ‘‘उपभोक्ता स्वास्थ्य एवं स्वच्छता में वैश्विक मुखिया होने के नाते उपभोक्ताओं के दैनिक जीवन में सफाई एवं स्वच्छता की स्थितियों में सुधार करना हमारा उद्देश्य है। इस उद्देश्य के लिए हम लंबे समय से प्रतिबद्ध हैं। हम विश्वास करते हैं कि आदतें कम उम्र में ही बनने लगती हैं और खासतौर से बच्चे सामाजिक बदलाव में एक प्रभावी परिवर्तनकारी एजेंट की भूमिका निभा सकते हैं। हाथ धुलाई की आदतों के महत्व पर जोर देते हुए इस अवसर पर हम लोग स्वस्थ एवं संक्रमण से सुरक्षित जीवन के लिए बच्चों को ज्ञान एवं तकनीक से लैस कर रहे हैं।

गिनिज वल्र्ड रिकाॅर्ड द्वारा इस रिकाॅर्ड को मान्य किया जाए, इसे सुनिश्चि करने के लिए मध्यप्रदेश में आयोजित इस हाथ धुलाई कार्यक्रम में गिनिज के स्थापित दिशानिर्देषों का पालन किया गया। इसमें 20 हजार से अधिक गवाह और इतने ही वीडियोग्राफर ने इस प्रक्रिया में सहायत की। प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर होने वाले इस आयोजन में 40 हजार से ज्यादा शिक्षक एवं कार्यकर्ताओं ने सहजता से इस कठिन कार्य को करने एवं शालाओं में बच्चों को एकत्र करने में अपना सहयोग दिया।

विश्व हाथ धुलाई दिवस की गतिविधि के अलावा भी एमपीटास्ट के तकनीकी सहयोग से मध्यप्रदेश सरकार स्वच्छ भारत मिशन के तहत प्रदेश को स्वच्छ बनाने और स्वच्छता की स्थितियों को सुधारने के लिए 19 नवंबर तक लोगों को लामबंद करने का कार्य कर रही है।

विश्व हाथ धुलाई दिवस के बारे में –
विश्व हाथ धुलाई दिवस वैश्विक स्तर पर साबुन से हाथ धोने के लिए लोगों को प्रेरित करने एवं लामबंद करने का एक अभियान है। यह हर साल 15 अक्टूबर को मनाया जाता है। बीमारी को रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण दृष्टिकोण के साथ साबुन से हाथ धोने के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए यह अभियान समर्पित है।

इसकी शुरुआत 2008 में स्टाॅकहोम में ‘‘हाथ धुलाई के लिए निजी-सार्वजनिक भागीदारी’’ के तहत आयोजित विश्व जल सप्ताह के दरम्यान की गई थी। स्वच्छता के मुद्दे को वैश्विक स्तर पर लाने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 2008 में अंतर्राष्ट्र्ीय स्वच्छता वर्ष की घोषणा की गई थी और प्रथम विश्व हाथ धुलाई दिवस के लिए 15 अक्टूबर का दिन तय किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *